रविवार, 2 जुलाई 2017

प्यार

यार सोचता हूं,
कलम प्यार लिखती है.
कहीं मैं मोहब्बत में तो नहीं !
00000

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें