गुरुवार, 21 अगस्त 2014

(लघुकथा ) न्याय



जहांगीर ने कि‍ले के दरवाज़े पर एक घंटा टंगवा दि‍या था. जि‍स कि‍सी को फ़रि‍याद करनी हो तो वह घंटा बजा सकता था. एक दि‍न, एक ग़रीब आदमी घंटा बजाने पहुंचा तो उसे वकील ने रोक लि‍या –‘तुम्‍हें न अरबी आती है न फ़ारसी, सुल्‍तान से अपनी बात कहोगे कैसे.’ ग़रीब उसके पीछे हो लि‍या -‘ठीक है माई-बाप, तो आप ही मेरा मामला ठीक करवा दो.’

वो दि‍न है और आज का दि‍न, वकील तारीख़ पे तारीख़ दे रहा है, प्रोसीज़र पूरा ही नहीं हो पा रहा है कि‍ वो घंटा बजा सके. ग़रीब आदमी का सब कुछ अब वकील के पास है सि‍वाय उसकी लंगोटी के. वकील की नज़र अब उसकी लंगोटी पर भी है. लेकि‍न ग़रीब को भरोसा पूरा है कि‍ एक न एक दि‍न वो घंटा जरूर बजा पाएगा.

00000
 

19 टिप्‍पणियां:

  1. जरूर बजेगा । अच्छे दिन आयेंगे ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (22.08.2014) को "जीवन की सच्चाई " (चर्चा अंक-1713)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बेचारा गरीब और तारीख पे तारीख :(

    उत्तर देंहटाएं
  4. उम्मीद नहीं टूटनी चाहिए...बढ़िया कथा

    उत्तर देंहटाएं
  5. फरियाद ऊपर तक पहुँचते पहुँचते,इस प्रतिक्रिया में,हम अपनी यादाश्त गवा बैठते है,
    ओर फिर घंटा बजता है-आवाज तक नहीं पहुँचती. इंसाफ मिल जाता है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. मतलब वकील ने उल्टा मुवक्किल का ही घंटा बजा दिया! :-)

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपके ब्लॉग को ब्लॉग एग्रीगेटर ( संकलक ) ब्लॉग - चिठ्ठा के "साहित्यिक चिट्ठे" कॉलम में शामिल किया गया है। कृपया हमारा मान बढ़ाने के लिए एक बार अवश्य पधारें। सादर …. अभिनन्दन।।

    कृपया ब्लॉग - चिठ्ठा के लोगो अपने ब्लॉग या चिट्ठे पर लगाएँ। सादर।।

    उत्तर देंहटाएं
  8. आज नहीं तो कल महकेगी ख़्वाबों की महफ़िल

    उत्तर देंहटाएं
  9. घंटा क्या घंटा बजा पायेगा ? :-(

    उत्तर देंहटाएं
  10. लंगोटी नजर करके ही सही, एक दिन घंटा जरूर बजायेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  11. वकील का चूल्हा ऐसे फर्यादी की आग पर जलता है।

    उत्तर देंहटाएं